उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल पर संपत्ति की खोज करने की प्रक्रिया

राजस्व परिषद, उत्तर प्रदेश ने राज्य के भूमि रिकॉर्ड्स को ऑनलाइन उपलब्ध कराया है। इसमें भूलेख और भू-नक्शा सेवाएं शामिल हैं, जिससे राज्य के नागरिक घर बैठे भूमि से जुड़ी जानकारी जैसे खसरा, खतौनी, भूखण्ड की स्थिति आदि आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

इस लेख में, हम उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल का उपयोग करके संपत्ति खोजने की प्रक्रिया पर विस्तार से बात करेंगे। यहाँ हम आपको बताएंगे कि कैसे आप इस पोर्टल पर जाकर अपनी संपत्ति की जानकारी, इसकी स्थिति, मालिकाना हक और अन्य संबंधित विवरणों को आसानी से खोज और समझ सकते हैं।

उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल पर संपत्ति की खोज करने की प्रक्रिया

उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल https://upbhulekh.gov.in/ पर उपयोगकर्ताओं को संपत्ति से संबंधित तीन महत्वपूर्ण सेवाएं प्रदान की जाती हैं, जो निम्नलिखित हैं:

  • राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति: इस सेवा के माध्यम से उपयोगकर्ता राजस्व ग्राम में स्थित सार्वजनिक संपत्ति का विवरण प्राप्त कर सकते हैं।
  • निष्क्रांत संपत्ति: यह विकल्प उन संपत्तियों की जानकारी प्रदान करता है जिन्हें विभिन्न कारणों से निष्क्रांत (छोड़ दिया गया) माना जाता है।
  • शत्रु संपत्ति: इस विकल्प के तहत उन संपत्तियों की जानकारी मिलती है जिन्हें किसी कारणवश शत्रु संपत्ति के रूप में चिह्नित किया गया है।
राजस्व ग्राम सार्वजानिक संपत्ति

उपरोक्त में से आप अपने वांछित विकल्प का चुनाव करके संपत्ति की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. मान लीजिए अगर आप ‘राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति‘ विकल्प का चुनाव करते हैं, तो इसे देखने के लिए आपको निम्नलिखित चरणों का पालन करना होगा:

  • विकल्प चुनें: पोर्टल पर ‘राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति’ पर क्लिक करें।
  • जानकारी दर्ज करें: एक नए पेज पर आपको अपना जनपद, तहसील और गाँव का नाम दर्ज करना होगा।
  • खसरा/गाटा संख्या दर्ज करें: फिर आपको खसरा या गाटा संख्या दर्ज कर ‘सार्वजानिक संपत्ति देखें’ के विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • संपत्ति की जानकारी देखें: इसके बाद आपके स्क्रीन पर संपत्ति से जुड़ी सभी डिटेल्स प्रदर्शित हो जाएगी। आप इस जानकारी को चाहें तो प्रिंट करके सुरक्षित भी रख सकते हैं.

निष्कर्ष

उत्तर प्रदेश भूलेख पोर्टल पर तीन प्रमुख सेवाएं – राजस्व ग्राम सार्वजनिक संपत्ति, निष्क्रांत संपत्ति, और शत्रु संपत्ति – उपलब्ध हैं। यह पोर्टल उपयोगकर्ताओं को आसानी से और तेजी से भूमि संबंधित जानकारी प्राप्त करने की सुविधा देता है, जिसमें जनपद, तहसील और गाँव के आधार पर विवरण दर्ज करके खसरा/गाटा संख्या के माध्यम से संपत्ति की जानकारी देखी जा सकती है। यह प्रक्रिया समय की बचत करती है और भूमि संबंधित निर्णय लेने में सहायक है।